As our beloved ex-Prime Minister Bharat Ratna Shri Atal Bihari Vajpayee ji is seriously ill, we are praying for his speedy recovery. There is no better way of recalling his glorious days than by remembering his evergreen poems. This is the first of this series.

मौत से ठन गई

अटल बिहारी वाजपेयी

 

ठन गई!
मौत से ठन गई!

जूझने का मेरा इरादा न था,
मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,
यों लगा ज़िन्दगी से बड़ी हो गई।

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं,
ज़िन्दगी सिलसिला, आज कल की नहीं।

मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूँ,
लौटकर आऊँगा, कूच से क्यों डरूँ?

तू दबे पाँव, चोरी-छिपे से न आ,
सामने वार कर फिर मुझे आज़मा।

मौत से बेख़बर, ज़िन्दगी का सफ़र,
शाम हर सुरमई, रात बंसी का स्वर।

बात ऐसी नहीं कि कोई ग़म ही नहीं,
दर्द अपने-पराए कुछ कम भी नहीं।

प्यार इतना परायों से मुझको मिला,
न अपनों से बाक़ी हैं कोई गिला।

हर चुनौती से दो हाथ मैंने किये,
आंधियों में जलाए हैं बुझते दिए।

आज झकझोरता तेज़ तूफ़ान है,
नाव भँवरों की बाँहों में मेहमान है।

पार पाने का क़ायम मगर हौसला,
देख तेवर तूफ़ाँ का, तेवरी तन गई।

मौत से ठन गई।

40 COMMENTS

  1. You really make it seem so easy with your presentation but
    I find this topic to be really something which I think I would never understand.
    It seems too complex and extremely broad for me. I am looking
    forward for your next post, I will try to get the hang of it!

  2. Знаете ли вы?
    Преподаватель нескольких университетов, попавший в сталинские лагеря, и там умудрился обучать математике на куске мыла.
    Бывший министр финансов удостоился высшей государственной награды за распространение знаний о психических расстройствах.
    Иракский физрук получил мировую известность под псевдонимом «ангел смерти».
    В роскошном болонском фонтане горожане стирали бельё и справляли нужду.
    Первая председательница Верховного суда Татарии молчала по поводу своей службы в НКВД.

    arbeca

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here